इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम | ट्रेडिंग करने के लिए बेस्ट टाइम

इंट्राडे ट्रेडिंग करके शॉर्ट टर्म में शेयर मार्केट से अच्छा पैसा कमाया जा सकता हैं। लेकिन इसके लिए जरुरी हैं की आपको इंट्राडे ट्रेडिंग की कुछ महत्वपूर्ण बातें अच्छे से पता हो। इन्हीं महत्वपूर्ण बातों में से एक हैं Intraday Trading Time.

एक ट्रेडर को Intraday Trading Time को लेकर बिलकुल क्लियर रहना चाहिए जिससे वो सही समय पर सही निर्णय ले सके। यदि आपको इंट्राडे ट्रेडिंग को लेकर कुछ भी संशय हैं तो आपको इसके लिए भारी नुकसान भी चुकाना पड़ सकता हैं।

Intraday Trading Time in Hindi

Intraday Trading Time in Hindi

स्टॉक मार्किट में चाहे तो कौनसा भी सेगमेंट हो चाहे वो इक्विटी हो, कमोडिटी हो या करेंसी, प्रत्येक ट्रेडिंग डे पर इनकी प्राइस में उतार – चढाव चलता रहता है। एक ट्रेडर इन उतार और चढ़ाव से ही पैसा बनाने की योजना बनाता हैं।

आज इस आर्टिकल में हम, इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम के बारे में जानेंगे। इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सही समय जानने से पहले आप ये जान लें की इक्विटी, कमोडिटी और करेंसी सेगमेंट के मार्केट के खुलने और बंद होने का समय अलग-अलग होता है। इसकी चर्चा हम आगे करेंगे।

इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम

शेयर बाजार के नियम के बहुत हैं उन्हीं में से एक नियम हैं इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम का नियम।

यदि इक्विटी शेयर मार्केट की बात की जाएं तो ये मार्केट ट्रेडिंग डे के सुबह 9:15 पर खुलता हैं। इसके बाद में ये शाम को 3:30 तक खुला रहता हैं। इस समय के दौरान लगभग 6.15 घण्टे का समय रहता हैं। ट्रेडर इस दौरान विभिन्न अवसरों का फ़ायदा उठाने की पूरी जोर आजमाइश करते हैं।

लेकिन वास्तविक रूप में इंट्राडे ट्रेडिंग करने का समय सुबह 9:15 से शुरू होता हैं जो आमतौर पर शाम के 03:20 तक रहता हैं। मतलब की यदि आपने सुबह कोई इंट्राडे सौदा लिया हैं और आपने उसे खुद स्क्वायर ऑफ नहीं किया हैं तो वो सौदा लगभग 03:20 पर कट जायेगा। सभी स्टॉक ब्रोकर में ऑटो स्क्वायर ऑफ का समय अलग-अलग होता हैं। किसी स्टॉक ब्रोकर में ये समय 03:00 बजे का होता हैं तो किसी में 03:10 का।

यदि आप अपनी इंट्राडे ट्रेडिंग पोजीशन को समय से पहले खुद स्क्वायर ऑफ नहीं करते हैं और ब्रोकर इसे ऑटो स्क्वायर ऑफ करता हैं तो इसके लिए ब्रोकर आपसे अतिरिक्त शुल्क चार्ज करता हैं। इसलिए इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय याद रखकर आपको अपनी पोजीशन को समय से पहले कट कर देना चाहिए।

कमोडिटी इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम

इक्विटी ट्रेडिंग के जैसे कमोडिटी ट्रेडिंग भी होती हैं जिसमें काफी ट्रेडर्स ट्रेड करते हैं। आप कमोडिटी ट्रेडिंग में मेटल्स, क्रूड ऑइल, नेचुरल गैस, कॉटन आदि कमोडिटीज में ट्रेड कर सकते हैं।

कमोडिटी में ट्रेड करने के लिए शेयर मार्केट का टाइम सुबह 9.00 बजे से लेकर रात के 11:55 बजे तक होता है। इस समय के दौरान आप कमोडिटी सेगमेंट में लिस्टेड कोई भी कमोडिटी में अपनी पोजीशन बना सकते हैं। हालांकि इक्विटी मार्केट के जैसे यहां पर भी ऑटो स्क्वायर ऑफ का समय पर होता हैं। कमोडिटी मार्केट में आपको रात के 11:30 बजे तक अपना सौदा काटना जरुरी होता हैं।

कमोडिटी मार्केट भी इक्विटी मार्केट की तरह शनिवार और रविवार को बंद रहता है। इस प्रकार आप सोमवार से शुक्रवार तक ट्रेड ले सकते हैं यदि उस दिन राष्ट्रीय अवकाश नहीं हैं तो।

इंट्राडे ट्रेडिंग टाइम फ्रेम

दोस्तों, आपने ये कहावत तो जरूर सुनी होगी की “समय किसी के लिए नहीं रुकता।”

स्टॉक मार्केट में ट्रेडर्स के लिए ये कहावत बिलकुल फिट होती है। क्योंकि ट्रेडर्स तभी पैसा कमा पाते हैं जब मार्केट में हाई वोलैटिलिटी रहती हैं। यदि मार्केट में कुछ वोलैटिलिटी ही नहीं हैं तो मार्केट से पैसा कमाना काफी मुश्किल हो जाता हैं।

अधिकतर सफल ट्रेडर्स वोलेटाइल स्टॉक्स में ही ट्रेड लेना पसंद करते हैं। वॉल्यूम ज्यादा होने की वजह से इनमें अच्छा पैसा कमाया जा सकता हैं।

यदि आपने कभी सुबह-सुबह अपनी ट्रेडिंग एप्प को खोलकर देखा हो तो आपने पाया होगा की 09:15 से 10:30 के बीच शेयर्स में सबसे ज्यादा वोलैटिलिटी होती हैं। ये सुबह का सवा घंटा सबसे महत्वपूर्ण होता हैं। ये समय इंट्राडे ट्रेड करने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता हैं।

अब आपके मन में ये सवाल जरूर आ रहा होगा की आखिर सुबह-सुबह ट्रेडिंग के लिए अच्छा क्यों माना जाता हैं।

वैसे इसके पीछे कोई इतना बड़ा लॉजिक नहीं हैं फिर भी मैं आपको इसके कुछ कारण बता रहा हूँ-

  • वोलैटिलिटी : मार्केट में सुबह स्टॉक्स में बहुत ज्यादा हलचल होती हैं। जब ज्यादा वॉल्यूम में शेयर ख़रीदे और बेचें जाते हैं तो ये ट्रेडिंग से पैसा बनाने सबसे बेस्ट समय माना जाता हैं।
  • लिक्विडिटी : बाकी ट्रेडिंग डे के मुकाबले सुबह के समय मार्केट में काफी लिक्विडिटी मौजूद होती हैं।
  • मार्केट न्यूज़ : तीसरा और अंतिम कारण हैं मार्केट न्यूज़। किसी स्टॉक को लेकर रात को कोई न्यूज़ आने से उसका रिएक्शन सबसे पहले मॉर्निंग सेशन में देखने को मिलता हैं। यदि पॉजिटिव न्यूज़ हैं तो ट्रेडर buy करके पैसा कमाने के लिए ट्रेड लेता हैं जबकि नेगेटिव न्यूज़ हैं तो वो Short sell करके प्रॉफिट कमाने की सोचता है।

इन्हीं वजहों से शेयर मार्केट के मॉर्निंग सेशन में ट्रेडर्स सबसे ज्यादा एक्टिव होते हैं।

क्या ज्यादा वोलैटिलिटी अच्छी होती हैं?

मार्केट में ज्यादा वोलैटिलिटी होना भी नुकसान का कारण बन सकता हैं। क्योंकि ज्यादा वोलैटिलिटी होने की वजह से रिस्क की मात्रा भी बहुत अधिक होती हैं। इसलिए एक नए ट्रेडर को शुरुवात में Intraday Trading करने में ज्यादा जल्दी-बाजी नहीं करनी चाहिए। सबसे पहले आपको मार्केट के मूवमेंट को समझने का प्रयास करना चाहिए फिर कोई निर्णय लेना चाहिए।

इंट्राडे ट्रेडिंग करने का सही समय

Intraday Trading Time in Hindi में आगे बात करते हैं इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए सही समय कौनसा होता हैं।

दोस्तों, इंट्राडे ट्रेडिंग अधिकतर उन्हीं शेयर में की जाती हैं जिनमें अस्थिरता (volatility) अधिक होती है। ये वोलैटिलिटी समय के अनुसार अलग-अलग होती हैं।

इस समय को आप निम्न चरणों में समझ सकते हैं :

  • पहला चरण (9:30 से 10:30 बजे तक)

ये सबसे पहला चरण होता हैं जो की सबसे अधिक वोलेटाइल  भी होता हैं। सुबह शेयर मार्केट न्यूज़ के हिसाब से खुलते हैं इसलिए इनमें वोलेटाइल बढ़ जाती हैं। हाई वॉल्यूम के कारण ट्रेडर्स इस सेशन में सर्वाधिक एक्टिव रहते हैं।

हाई वोलेटाइल मार्केट ट्रेडर्स के लिए अच्छा भी होता हैं और बुरा भी। क्योंकि इस समय बहुत अधिक मुनाफ़ा भी कमाया जा सकता हैं और नुकसान भी। इसलिए नए ट्रेडर को इस सेशन में ट्रेडिंग करने से बचना चाहिए।

  • दूसरा चरण (सुबह 10:30 से दोपहर 12 बजे)

इस चरण में हाई वोलैटिलिटी थोड़ी कम हो जाती हैं और मार्केट में अस्थिरता औसत हो जाती हैं। इस समय स्टॉक की कीमतें एक रेंज में स्थिर हो जाती हैं और ये मार्केट की दिशा को तय करती हैं। साथ भी इंडेक्स भी कम मूवमेंट दिखाता हैं।

इस समय में ट्रेडर्स चार्ट, शेयर पैटर्न, ट्रेडिंग वॉल्यूम पर काम करते हैं। यदि कोई नया ट्रेडर ट्रेडिंग सीखना चाहता हैं तो ये सेशन सीखने के लिए बढ़िया विकल्प होता हैं।

  • तीसरा चरण (दोपहर 12.00 बजे से 2:30 बजे तक)

तीसरा सेशन शेयर मार्केट में स्टेबल सेशन माना जाता हैं। इस सेशन में वैश्विक डाटा फ्लो , वैश्विक मार्केट की न्यूज़ को तवज्जों दी जाती हैं।

एक ट्रेडिंग सेशन कोई विशेष मूवमेंट दिखाता नहीं हैं। इस सेशन में ट्रेडिंग अवसर ढूढ़ना थोड़ा मुश्किल काम हो सकता हैं।

  • अंतिम और चौथा चरण (दोपहर 2:30 बजे से 3:30 तक)

ये ट्रेडिंग सेशन अंतिम सेशन होता हैं। ट्रेडिंग का आखिरी घंटा काफी वोलैटिलिटी लेकर आता हैं। जो ट्रेडर्स सुबह से अपनी पोजीशन बनाकर बैठे होते हैं वो अपनी पोजीशन को क्लियर करते हैं जिसमें वॉल्यूम में बहुत ज्यादा बढ़ोत्तरी हो जाती हैं।

ये सेशन काफी रिस्की सेशन होता हैं इसलिए इस ट्रेडिंग समय में बहुत सोच-समझकर ट्रेडिंग करनी चाहिए।

ये भी पढ़े:

निष्कर्ष

दोस्तों, शेयर मार्केट से इंट्राडे ट्रेडिंग के माध्यम से पैसा कमाना थोड़ा मुश्किल काम हैं। ये ऐसी प्रोसेस नहीं हैं की आज आपने इंट्राडे ट्रेडिंग चालू की और आज से पैसा आना शुरू। ट्रेडिंग को आपको सीखना पड़ता हैं और ये सीखने की प्रक्रिया निरंतर हैं।

आज आपने इस आर्टिकल में समझा Intraday Trading Time in Hindi या इंट्राडे ट्रेडिंग का क्या टाइम होता हैं। यदि आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया नेटवर्क्स पर जरूर शेयर करें और आप आपके सवाल या सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं।

  1. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कौन सा दिन सबसे अच्छा है?

    Intraday Trading करने के लिए सुबह 09:30 से लेकर 10:30 का समय सबसे अच्छा माना जाता हैं। इस समय मार्केट में हाई वोलैटिलिटी होने की वजह से अच्छा प्रॉफिट कमाया जा सकता हैं।

  2. हम इंट्राडे ट्रेडिंग कितने दिनों तक कर सकते हैं?

    जैसा की Intraday Trading के नाम से ही पता चल रहा हैं ये ट्रेडिंग एक दिन में ही समाप्त हो जाती हैं। इसमें Buy और Sell के सौदे एक ही दिन में कम्पलीट करने होते हैं।

  3. इंट्राडे कैसे खेलते हैं?

    इसके लिए आपको किसी ब्रोकर के पास अपना डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा उसके बाद आप इंट्राडे ट्रेडिंग कर सकते हैं।

  4. क्या इंट्राडे ट्रेडिंग सुरक्षित है?

    मार्केट में कोई चीज सुरक्षित नहीं होती। ट्रेडिंग में हमेशा जोखिम बनी रहती हैं। विशेषतौर पर जब आप गैंबलिंग करते हैं।

  5. क्या इंट्राडे आपको अमीर बना सकता है?

    रातों-रात तो कोई ट्ट्रेडिंग से अमीर नहीं होता। यदि आप अच्छा मुनाफा कमाने लग जाते हैं तो ये धीरे-धीरे बढ़ता जायेगा। लेकिन यदि आप बिना सोचे और समझे Intraday Trading करते हैं तो इसमें नुकसान भी हो सकता हैं।

Leave a Reply

Punji Guide