Mutual Fund और SIP में अंतर ? SIP vs Mutual Fund

Mutual Fund क्या है और SIP का क्या मतलब होता है। म्यूच्यूअल फंड और SIP में क्या अंतर होता है। (SIP and Mutual fund Difference in Hindi). आप में से कई लोग जानते हैं कि Mutual Fund और SIP में अंतर क्या होता है। हालांकि कुछ लोग जानकारी के अभाव में Mutual Fund और SIP में अंतर नहीं कर पाते। तो आइए बिल्कुल सरल भाषा में समझते हैं कि आखिर म्यूच्यूअल फंड और SIP में क्या अंतर है।

Mutual Fund क्या है

SIP को समझने से पहले यह जानना आवश्यक है कि Mutual Fund क्या होता है। म्यूच्यूअल फंड हाउस अलग-अलग निवेशकों से पैसा इकट्ठा करके स्टॉक्स, बांड्स, में निवेश करते हैं। Mutual Fund अपने निवेशकों के लिए वेल्थ बनाने के उद्देश्य से कार्य करते हैं। एक फण्ड हाउस की बहुत सी schemes हो सकती है। जैसे की लार्ज कैप फण्ड ,स्माल कैप फण्ड, लिक्विड फण्ड आदि। 

सरल भाषा में समझे तो म्यूच्यूअल फण्ड एक ऐसा बकेट है जिसमें फंड हाउस (AMC) अलग-अलग लोगों से पैसा इकट्ठा कर जमा करते हैं। जिसका उपयोग फंड हाउस बाजार से विविध प्रकार के स्टॉक्स, बांड्स, सिक्योरिटीज खरीदने में करते हैं। Mutual Fund का मूल्य ट्रेडिंग डे के अंत में NAV (Net asset value) के आधार पर निकाला जाता है। किसी Mutual Fund स्कीम को फण्ड मैनेजर द्वारा संचालित किया जाता है। फण्ड मेनेजर AMC द्वारा नियुक्त किये जाते हैं। 

Mutual Fund में निवेश करने के तरीके

म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के दो मुख्य तरीके हैं। पहला Lump sum और दूसरा SIP.  म्यूच्यूअल फंड स्टॉक मार्केट के ऊपर आधारित है। अगर आप ज्यादा रिस्क लेकर स्टॉक मार्केट में सीधा निवेश नहीं करना चाहते तो Mutual Fund कम रिस्क पर म्यूच्यूअल फंड में निवेश की सुविधा उपलब्ध करवाता है। आप इसके लिए लम्प सम या SIP में से किसी भी विकल्प का उपयोग कर सकते हैं। 

SIP क्या है

एसआईपी यानी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान। इसमें निवेशक अपने लक्ष्य एवं उद्देश्यों के अनुसार निवेश करते है। SIP में एक निश्चित समय आम तौर पर 1 महीने के अंतराल पर पैसा म्यूचुअल फंड में डाला जाता है। जिससे पैसा लगातार म्यूच्यूअल फण्ड में जमा होता रहता है और आप लंबे समय में अच्छी वेल्थ बना पाते हैं। SIP एक ऐसा बेहतरीन तरीका है जो कम रिस्क के साथ लंबे समय में अच्छा रिटर्न देता है। 

Mutual Fund और SIP में अंतर

दोस्तो SIP एक ऐसा टूल या माध्यम है जिसके द्वारा आप mutual fund में निवेश कर सकते हैं। Mutual Funds की अधिकतर स्कीम्स में SIP के माध्यम से निवेश का विकल्प मौजूद रहता हैं। 

आपने कई बार सुना होगा कि mutual fund में निवेश करो। परंतु mutual fund में निवेश करें कैसे यह एक प्रमुख सवाल रहता हैं। SIP वह माध्यम है जो हमें म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने की सुविधा उपलब्ध करवाता है। जिसमें आप थोड़ा-थोड़ा करके म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करते रहते हो।  

Mutual Fund और SIP में अंतर को एक उदाहरण के माध्यम से समझने का प्रयास करते हैं जैसे कि SBI Mutual Fund House एक ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी है। इसकी एक mutual fund स्कीम है जिसका नाम है SBI Bluechip Fund. अभी आपको SBI Bluechip Fund में निवेश करना है। अब आपके पास यहां निवेश करने के 2 तरीके हैं पहला लम सम यानी आप इसमें बस एक बार पैसा डाल कर छोड़ दें। दूसरा SIP यानी आप इसमें एक निश्चित अंतराल पर लगातार निवेश करते रहें। 

कई नए निवेशक जानकारी के अभाव में ऐसा सोचते हैं कि SIP स्वयं में एक निवेश विकल्प है परंतु ऐसा नहीं है। SIP एक स्मार्ट और बिना परेशानी के किए जाने वाला निवेश है। संक्षेप में अगर आपको mutual funds में निवेश करना है तो आप SIP के माध्यम से म्यूच्यूअल फंड में निवेश कर सकते हैं। 

Mutual Fund और SIP में अंतर , SIP OR MUTUAL FUND ME ANTAR

SIP (Systematic Investment Plan)

SIP के माध्यम से हम कई प्रकार के फंड्स में निवेश कर सकते हैं। SIP या सिप हमें विकल्प देता है कि अगर हमारे पास बड़ा अमाउंट नहीं है परंतु हमें mutual fund में निवेश करना है तो हम SIP के जरिए म्यूच्यूअल फंड में निवेश कर सकते हैं। SIP के माध्यम से हम ₹500 यहां तक कि कुछ फंड्स के मामले में ₹100 से भी निवेश प्रारम्भ कर सकते हैं। इस प्रकार हम mutual funds के SIP टूल के माध्यम से थोड़े-थोड़े पैसे जमा अच्छी वेल्थ का निर्माण कर सकते हैं। 

SIP investment क्यों फायदेमंद है?

जैसा कि आपने जाना की SIP के माध्यम से हम mutual funds में निवेश कर सकते हैं। निम्न कारणों की वजह से हमें SIP के जरिए निवेश करना चाहिए। 

  • एसआईपी के जरिए rupee average cost  का फायदा मिलता है। आपकी SIP हर प्रकार की स्थिति वाले मार्केट में जाती है जो cost को average करने में कामयाब रहती हैं।
  • लंबे समय में अपने compounding returns के कारण SIP बहुत अच्छा रिटर्न दे सकती है। आप जितने समय के लिए invested रहेंगे आपका मुनाफा उतना ही अधिक होगा। 
  • SIP में निवेश करने से निवेशक के ऊपर कोई बड़ा वित्तीय बोझ नहीं होता है। आप कम राशि से भी SIP प्रारंभ कर सकते हैं। एसआईपी में निवेश करने की लागत भी नाम मात्र की होती है जिसकी वजह से आपको प्रोफेशनल एक्सपर्ट्स की सेवाएं मिल जाती है।

उपरोक्त सभी कारणों के कारण एसआईपी निवेश करने के लिए एक बेहतरीन विकल्प है

निष्कर्ष

किसी भी mutual fund स्कीम में आप सिस्टमैटिक तरीके से निवेश करके पैसा बना सकते हैं। कम निवेश की आवश्यकता के कारण कोई भी इसमें निवेश कर सकता है। आशा करते हैं आपको Mutual Fund और SIP में अंतर समझ में आया होगा। अगर आपको Mutual Fund और SIP में अंतर से संबंधित कोई भी सवाल हो तो हमें कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं ।

Leave a Reply

Punji Guide