क्या Term Insurance Policy लेना जरूरी हैं?

क्या आपने कभी यह सोचा है कि किसी परिवार में कमाने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो जाने के पश्चात उसके परिवार का क्या होगा?

इस घड़ी में हमें Term Insurance की महत्वता पता लगती है। वैसे भी आजकल टीवी पर आने वाले एक एडवर्टाइज में अक्षय कुमार यमराज बन कर टर्म इंश्योरेंस का महत्व बताते हुए नजर आते हैं। 

इस भाग दौड़ भरी और अनिश्चितता वाली जिंदगी में जिंदगी का कोई भरोसा नहीं है। इसीलिए यहां Term Life Insurance का महत्व अधिक हो जाता है। जब हम कार का, बाइक का insurance करवा सकते है तो हमारे जीवन का क्यों नहीं? आज हम आसान हिंदी भाषा में समझेंगे कि Term Plan क्या हैं और क्या आपको Term Insurance लेना चाहिए?

Term Insurance क्या हैं – What is Term Insurance ?

अगर आसान भाषा में समझे तो Term Insurance किसी व्यक्ति का निश्चित समय अवधि (term) के लिए जीवन बीमा है। मतलब कि यदि उस बीमा की अवधि में बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो इंश्योरेंस की राशि उसके नॉमिनी को दी जाती है जिससे उसका परिवार अपना वर्तमान एवं भविष्य सही ढंग से यापन कर सकें। 

Term Plan में बीमित व्यक्ति बीमा कंपनी को प्रीमियम का भुगतान करता है जिसकी एवज में उसे बीमा की अवधि में life insurance प्राप्त होता है। 

Key Features 

  • Term Insurance एक प्रकार का Life Insurance Policy है।
  • कई टर्म इंश्योरेंस कंपनियां अलग-अलग अवधि के लिए अलग-अलग प्रीमियम ऑफर करती हैं। 
  • Permanent Life Insurance की तुलना में टर्म इंश्योरेंस सस्ता रहता हैं। 
  • Term Plan Policy अलग-अलग समय के लिए उपलब्ध होती है, जैसे कि 20 वर्ष, 30 वर्ष, 40 वर्ष। 
  • Insurance Company द्वारा बीमा करवाने वाले व्यक्ति के स्वास्थ्य, स्मोकिंग, जीवन प्रत्याशा और उम्र को ध्यान में रखकर प्रीमियम निर्धारित किया जाता है। 
  • कम उम्र में टर्म इंश्योरेंस लेने पर प्रीमियम की राशि कम रहती है। आप जितना देरी से Term Insurance Policy लेंगे उतना प्रीमियम बढ़ता जायेगा। 
  • यहां यह बात ध्यान देने योग्य है कि Term Plan की अवधि में ही पॉलिसी क्लेम मिलेगा। Policy की अवधि समाप्त होने पर कोई क्लेम प्राप्त नहीं होगा। मान लीजिए राम ने 60 वर्ष की उम्र तक का Term Insurance करवाया है। ऐसी स्थिति में 45 वर्ष की उम्र में राम की मृत्यु हो जाती है। इस स्थिति में राम के परिवार को क्लेम प्राप्त हो जाएगा। परंतु अगर राम की मृत्यु 62 वर्ष की उम्र में होती है तो राम के परिवार को कोई क्लेम प्राप्त नहीं होगा। 
  • टर्म प्लान की अवधि समाप्त होने से पूर्व policy को renew या आगे बढ़वाया जा सकता हैं। 
  • Term Life Insurance Premium इनकम टैक्स की धारा 80(C) में छूट योग्य होते हैं।  

दोस्तों यहां तक आपको समझ में आया होगा कि Term Insurance क्या होता है ? चलिए आगे समझते हैं-

Term Insurance किस को लेना चाहिए?

एक महत्वपूर्ण सवाल जो आपके मन में आता होगा कि आखिर Term Plan किसके लिए लेना चाहिए। क्या परिवार के सभी सदस्यों के लिए Term Policy ले लेनी चाहिए? इसका उत्तर होगा जी नहीं। पॉलिसी सिर्फ उसी व्यक्ति की लेनी चाहिए जिसके नहीं रहने की स्थिति में परिवार की आय का जरिया समाप्त हो जाए।

आसान भाषा में समझे तो 5 सदस्यों के परिवार में एकमात्र XYZ कमाने वाला है। इस स्थिति में परिवार के चार सदस्य कमाने वाले नहीं है। यहां XYZ के लिए टर्म प्लान अनिवार्य है। 

Term Insurance Policy किसे लेनी चाहिए -
अगर आप के ऊपर कोई व्यक्ति निर्भर (Depended) नहीं है तो आपको कोई Term Insurance की जरूरत नहीं है क्योंकि टर्म इंश्योरेंस के बिना आपके डिपेंडेंट आपके नहीं रहने की स्थिति में समस्या आ सकते हैं। अगर परिवार में Husband-Wife दोनों कमाने वाले हैं तो दोनों का टर्म प्लान वांछनीय हो जाता हैं। 

क्या Term Insurance Policy लेना आवश्यक हैं?

दोस्तों Term Insurance Plan लेना जरूरी है या नहीं। इसे मैं एक उदाहरण के माध्यम से समझाना चाहूंगा। जिससे आप स्वयं जान जाएंगे कि आपको टर्म इंश्योरेंस लेना है या नहीं।

ABC और XYZ दो दोस्त है। दोनों की उम्र वर्तमान में 30 वर्ष है। ABC और XYZ दोनों के परिवारों में उनको मिलाकर छह-छह सदस्य हैं। ABC और XYZ  दोनों अपने परिवार में एकमात्र कमाने वाले व्यक्ति हैं।

दोनों के परिवारों में उनके माता-पिता पत्नी एवं बेटा एवं बेटी है। XYZ ने 30 वर्ष की उम्र में एक करोड़ का Term Life Insurance ले लिया। जबकि ABC ने ऐसी कोई पॉलिसी नहीं करवायी। मान लेते हैं यहां पर ABC और XYZ दोनों की एक दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है।

दोनों की मृत्यु के पश्चात दोनों परिवारों की स्थिति –

ABC – ABC की थोड़ी बहुत सेविंग उसके परिवार के लिए पर्याप्त नहीं होती है। उसके बूढ़े माता-पिता कुछ काम नहीं कर सकते। जबकि बेटी एवं लड़के की अच्छी पढ़ाई एवं शादी की समस्या खड़ी हो जाती है। परिवार की आय का जरिया बिल्कुल खत्म हो जाता है न कोई एकमुश्त राशि हैं जो इनके काम आये। 

XYZ – XYZ  के परिवार को इंश्योरेंस कंपनी से एक करोड़ का मुआवजा मिलता है। जिससे वह अपने बच्चों की शिक्षा एवं शादी की जिम्मेदारी आसानी से उठा सकते हैं। रमेश का परिवार दूसरों पर निर्भर न रहकर आत्मनिर्भर हैं। XYZ की समझदारी उसके परिवार के काम आई। 

दोस्तों आप सोच रहे होंगे कि मैंने एक आसान बात समझाने के लिए इतने बड़े उदाहरण का सहारा क्यों लिया। हकीकत यही है कि है हमें वास्तविकता को अधिक गहराई से जाने के लिए किसी घटना को सही ढंग से समझना पड़ता है। 

आपका जीवन आपके परिवार के लिए बहुमूल्य होता है। आपका रहना या ना रहना आपके परिवार को बहुत अधिक प्रभावित कर सकता है।  परिवार के मुखिया की मृत्यु परिवार की आय खत्म कर देती है। अगर परिवार के मुखिया का Insurance ना हो तो परिवार को कई संकटों का सामना करना पड़ सकता है। 

टर्म इंश्योरेंस की आवश्यकता

हमारा जीवन बहुत अप्रत्याशित है। किसी की मृत्यु का समय कभी भी निर्धारित नहीं होता है। इस प्रकार की अनिश्चितताओं के लिए Term Plan Insurance एक बेहतरीन विकल्प है। टर्म इंश्योरेंस लेकर आप अपने परिवार के लिए निश्चित हो सकते हैं। परिवार के मुखिया की मृत्यु होने की स्थिति में बच्चों की पढ़ाई, ऋण चुकाना, शादी जीवन यापन के insurance के कारण आसान हो जाता है। 

term plan, best life insurance policy

Term Insurance कब लेना चाहिए ?

Term Insurance age limit – टर्म इंश्योरेंस आप 18 से 65 वर्ष की आयु के बीच ले सकते हैं। आप इसे जितनी जल्दी लेंगे आपको उतना फायदा होगा।

अगर आप अपनी कम उम्र में इंश्योरेंस लेते हैं तो आप का प्रीमियम कम होगा।कम उम्र में Death प्रोबेबिलिटी कम होने के कारण insurance premium कम रहता है। अगर आप अपनी अधिक उम्र में जैसे कि 40 वर्ष में इंश्योरेंस लेते हैं तो उस समय आपका इंश्योरेंस प्रीमियम अधिक होगा। अधिक उम्र होने की स्थिति में Death प्रोबेबिलिटी ज्यादा होने के कारण अधिक प्रीमियम देना पड़ता है। 

अगर आप 30 वर्ष की आयु पूर्व कमाना प्रारंभ कर चुके हैं तो आपको 30 वर्ष तक की आयु में Term Insurance करवा लेना चाहिए। आप जितना देरी करेंगे आपका प्रीमियम उतना बढ़ता जाएगा।

टर्म इंश्योरेंस कितने अमाउंट का लेना चाहिए ?

Insurance की राशि प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग हो सकती है। इसका कोई निश्चित मानक नहीं है। फिर भी एक सर्वमान्य फार्मूला सभी के लिए कार्य करता है।

आपको अपनी वार्षिक आय (annual salary) का 20 गुना टर्म इंश्योरेंस लेना चाहिए। अगर आपकी वार्षिक आय 5 लाख है तो आपको 5 लाख * 20 = 1 करोड़ रुपए का टर्म इंश्योरेंस लेना चाहिए। आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि यहां inflation का भी महत्व रहता है। आप प्रतिवर्ष 6% के हिसाब से मुद्रास्फीति मान सकते हैं। 

बीमा की राशि ऐसी होनी चाहिए कि बीमित व्यक्ति के नहीं रहने की स्थिति में परिवार के लिए पर्याप्त हो। मतलब की वे अपनी समस्त छोटी-बड़ी जरूरतों को बिना किसी आर्थिक कार्य या सहायता के पूरा कर सकें। 

Term Insurance लेते वक्त किन बातों का ध्यान रखें

Term Insurance खरीदने से पहले आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना होता है।

इंश्योरेंस, Investment नहीं हैं –  यह एक महत्वपूर्ण बात है कि आपको कभी भी Term Insurance को एक investment की तरह नहीं खरीदना हैं। टर्म प्लान कोई इन्वेस्टमेंट नहीं होकर एक safety plan हैं। आपको Term plan policy में Pay Back Plans से दूर रहना चाहिए। इसमें आपको अतिरिक्त प्रीमियम देना पड़ सकता है साथ ही पॉलिसी की राशि (sum assured) भी कम हो जाती है। इंश्योरेंस एवं इन्वेस्टमेंट को हमेशा अलग-अलग ही रखें। 

राइडर (Rider) – आप टर्म इंश्योरेंस के साथ अतिरिक्त राइडर ले सकते हैं। इसमें बीमित व्यक्ति सीरियस बीमारी या स्थायी रूप से disable होने की स्थिति में भी claim मिल जाता है। इसमें थोड़ा अधिक प्रीमियम के साथ आप अतिरिक्त फायदे प्राप्त कर सकते हैं। 

खोजबीन एवं जांच – किसी भी पॉलिसी को बिना सोचे-समझे ना ख़रीदे। पहले अपनी जरूरतों एवं लक्ष्यों के हिसाब से सही पॉलिसी खोजनी चाहिए। किसी भी एजेंट पर आंख बंद करके विश्वास मत कीजिए।

Claim Settlement Ratio – आप जिस भी इंश्योरेंस कंपनी की पॉलिसी ले रहे हैं, उसका क्लेम सेटेलमेंट रेशों अवश्य चेक कीजिए। क्लेम सेटेलमेंट रेशों यानी कि वह कंपनी 100 में से कितने केस सफलतापूर्वक सेटल कर पाती है। यह ratio कम से कम 95 होना जरूरी है। Claim Settlement Ratio आप IRDA की official वेबसाइट से चेक कर सकते हैं। 

साथ में आप Amount Settlement Ratio भी जरूर चेक करें। जैसे की पॉलिसी कंपनी द्वारा ₹ 100 के बीमा पर कितना क्लेम पास किया गया है। क्योंकि कई बार कंपनियां छोटी राशि वाले क्लेम्स को पास कर देती हैं जिनसे उनका क्लेम सेटलमेंट रेश्यो बाद जाता है जो हमें भर्मित कर सकता हैं।

सही जानकारी दें – जब भी आप अपने लिए Term Life Insurance Policy ख़रीदे, उस समय आपको फॉर्म में बिल्कुल सही जानकारी देनी चाहिए। अगर आपको कोई भी बीमारी है तो उसे बिलकुल भी न छिपाये। ऐसा बिलकुल भी नहीं करना चाहिए, क्योकि बीमा कंपनी इन बातो की क्लेम के समय पड़ताल करती है जिससे क्लेम निश्चित रूप से रिजेक्ट हो सकता हैं। 

निष्कर्ष 

ये आर्टिकल पढ़ कर आप ये जरूर जान गए होंगे की आपको टर्म प्लान लेना चाहिए नहीं। मेरी राय में तो परिवार के कमाने वाले मुखिया को अवश्य जीवन बीमा लेना चाहिए।  

ये भी पढ़े – सरल जीवन बीमा योजना | क्या ये पॉलिसी आपको लेनी चाहिए

दोस्तों, Term Life Insurance के बारे में ये जानकारी कैसी लगी, आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपने सवाल या सुझाव बता सकते हैं। 

Leave a Reply

Punji Guide