कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022

शेयर मार्केट में हजारों कंपनियां लिस्टेड हैं और उनमें से कुछ बढ़िया कंपनियों का चुनाव थोड़ा कठिन काम हो सकता हैं।  स्टॉक मार्केट में टिप्स के आधार पर खरीदे गए शेयर आपको कभी भी विश्वास नहीं दे पाएंगे कि वे आपको भविष्य में अच्छा रिटर्न दे पाएंगे या नहीं। इसलिए आपको पता होना चाहिए की शेयर कैसे चुनें

आपको मैं इस आर्टिकल में कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर बता रहा हूं। अगर आप किसी भी स्टॉक में आंख बंद करके निवेश करते हैं तो शायद आप स्टॉक मार्केट में अच्छा पैसा नहीं कमा पाएं।

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर

इसलिए शेयर खरीदने से पहले कंपनी का बिजनेस मॉडल, कंपनी के फाइनेंसियल और कंपनी की सही जानकारी जरूर प्राप्त करें।

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022

अगर आप कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर खोज रहे हैं तो आपको यह भ्रम हो सकता हैं कि ₹10 या ₹100 की कीमत वाले वाले शेयर ही कम कीमत के होते हैं।

शेयर प्राइस किसी शेयर भी के सस्ते और महंगे होने का एक परसेंट भी अंदाजा नहीं दे सकती। P/E Ratio और मार्केट कैपिटलाइजेशन ऐसे फैक्टर्स हैं जो आपको बता सकते हैं कि शेयर सस्ता हैं या महंगा।

उदाहरण के लिए वोडाफोन आइडिया का मार्केट कैप लगभग 32,000 करोड रुपए हैं। साथ ही MRF शेयर का मार्केट कैप भी लगभग 32,000 करोड रुपए ही हैं। अगर आप 32,000 करोड रुपए में किसी बिजनेस को खरीदना चाहते हैं तो वह वोडाफोन आइडिया होगा या MRF ?

इसका सीधा सा उत्तर हैं आप MRF खरीदना पसंद करेंगे क्योंकि vodafone-idea तो एक लॉस मेकिंग कंपनी हैं। MRF के एक शेयर का मूल्य ₹78,000 हैं जबकि vodafone-idea का ₹10-11 हैं। ऐसा नहीं की वोडाफोन-आईडिया का शेयर सस्ता हैं तो ये भविष्य में ₹1,000-1,500 हो जायेगा। ऐसा होने पर इसका मार्केट कैपिटलाइजेशन रिलायंस से लगभग दोगुना हो जाएगा जो की संभवता से कोसों परे हैं।

इसलिए कंपनी के शेयर प्राइस का स्टॉक के सस्ते और महंगे होने से कोई सीधा संबंध नहीं हैं।

1. Trident Ltd.

ट्राइडेंट लिमिटेड कम कीमत वाले मजबूत शेयर की लिस्ट में हमारा पहला शेयर हैं। इस कंपनी का होम टैक्सटाइल का बिजनेस हैं। यह कंपनी 1990 में स्थापित हुई थी।

ट्राइडेंट लिमिटेड यार्न बाथ, टेरी टॉवल्स पेपर और केमिकल का निर्माण करती हैं। इसका मुख्य बिज़नेस एक्सपोर्ट से आता हैं।

इस शेयर का वर्तमान में करंट मार्केट प्राइस ₹42 हैं। ट्राइडेंट लिमिटेड का मार्केट कैप ₹ 22,753.44 Cr. हैं।

कंपनी का मजबूत पक्ष

  • 150 से अधिक देशों में कंपनी अपने प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट करती हैं।
  • कंपनी का “मेक इन इंडिया” पर फोकस।
  • कंपनी के पास 12 से अधिक प्रोडक्ट्स के पेटेंट मौजूद।
  • 46 से अधिक ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ट्राइडेंट कंपनी के प्रोडक्ट्स की उपलब्धता।
  • ट्राइडेंट लिमिटेड निरंतर रूप से अपने कर्ज़ (debt) को घटाने का प्रयास कर रही हैं।

कंपनी की फाइनेंसियल जानकारी

  • कंपनी का Debt to Equity रेशों 0.46 हैं जो कि बताता हैं कि कंपनी अपने डेब्ट को हैंडल करने में सक्षम हैं।
  • कंपनी वर्ष दर वर्ष अपने प्रॉफिट को बढ़ा रही हैं।
  • कंपनी का पिछले 5 वर्ष का औसत ROCE 10.49% रहा हैं।
  • शेयर होल्डिंग पेटर्न की बात की जाए तो कंपनी अपने स्टैक को थोड़ा-थोड़ा करके बढ़ा रही हैं जो वर्तमान में 73.02 हो चुका हैं।
  • कंपनी का कोई भी शेयर Pledge नहीं हैं।

पिछले एक वर्ष में इस कंपनी ने अपने निवेशकों को 500% से अधिक का रिटर्न बना कर दिया हैं। एक रुपए की फेस वैल्यू वाले इस शेयर का डिविडेंड यील्ड 0.73% हैं।

Trident Share Price Target को अंग्रेजी में आप यहां से पढ़ सकते हैं।

2. KMC Specialty Hospitals

ये कंपनी हॉस्पिटल एक्टिविटीज़ से सम्बंधित बिज़नेस में हैं जो 1982 में स्थापित हुई थी। कंपनी मुख्य रूप से चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के व्यवसाय में लगी हुई है।

इस शेयर की CMP ₹62 के आस-पास हैं। इस स्टॉक का P/E Ratio लगभग 48 हैं जो इंडस्ट्री के पी ई 133 से काफी कम हैं।

मजबूत पक्ष

  • अनुभवी मैनेजमेंट, बिज़नेस ऑपरेशन का लंबा ट्रैक रिकॉर्ड।
  • कंपनी की स्ट्रांग ब्रांड इमेज।
  • कंपनी का करंट ROE 22.42% और ROCE 25.85% हैं जो की कंपनी की अच्छी हेल्थ को दर्शाते हैं।
  • प्रमोटर्स के पास कंपनी के 75% हैं जो दिखाते हैं की कंपनी के प्रमोटर्स का इनके बिज़नेस मॉडल में विश्वास हैं।
  • कोई भी शेयर प्लेज (Pledge) नहीं हैं।
  • पिछले पांच वर्ष में कंपनी का औसत Profit Growth 31.80% हैं।
  • कंपनी का Current Ratio काफी बढ़िया हैं जो 2.08 हैं।
  • कंपनी के पास एक अच्छा Cash Flow मैनेजमेंट है। इसका CFO/PAT 1.65 है।

हालाँकि कंपनी अपने निवेशकों को डिविडेंड का भुगतान नहीं करती हैं। लेकिन साथ ही हेल्थ सेक्टर की इस कंपनी में ग्रोथ की बहुत अधिक संभावनाएं हैं।

₹1 की फेस वैल्यू वाले इस शेयर का मार्केट कैपिटलाइजेशन लगभग एक हज़ार करोड़ रुपए हैं।

3. Tata Power

टाटा पॉवर, टाटा ग्रुप की ही एक कंपनी हैं। टाटा पॉवर एक इंटीग्रेटेड पॉवर कंपनी हैं जो की पॉवर जनरेशन, ट्रांसमिशन, पॉवर ट्रेडिंग बिज़नेस में काम कर रही हैं।

ये कंपनी इलेक्ट्रिक व्हीकल के सेक्टर में आपकी बढ़िया चॉइस हो सकती हैं। रणनीति के तहत टाटा मोटर्स इलेक्ट्रिक व्हीकल बेचेगा जबकि टाटा पॉवर इन व्हीकल्स की चार्जिंग के लिए इंफ्रास्ट्रकचर तैयार करेगा। टाटा पॉवर रिन्यूएबल एनर्जी के बिज़नेस में है जो EV चार्जिंग स्टेशन को बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

कंपनी ने अगस्त 2017 में ही अपना पहला पब्लिक चार्जिंग स्टेशन लांच कर दिया था।

टाटा पॉवर का शेयर अभी के समय में ₹220-₹230 की रेंज में हैं।

कंपनी के मजबूत पक्ष

  • वर्तमान में कंपनी के पास में 92 अलग-अलग शहरों में 600 चार्जिंग स्टेशन हैं। कंपनी ने चार्जिंग स्टेशन को ढूंढने के लिए एक मोबाइल एप्प भी लांच किया हैं।
  • टाटा पॉवर का मैनेजमेंट अग्रेसिव तरीक़े से चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने पर काम कर रहा हैं। वर्तमान में देश में जितने भी चार्जिंग स्टेशन हैं उसका लगभग 53% हिस्सा टाटा पॉवर के पास हैं।
  • पिछले दो वर्ष में कंपनी की प्रमोटर होल्डिंग 33% से बढ़कर 46.86% तक पहुंच गई हैं।

टाटा पॉवर सभी प्रकार के सेगमेंट में चार्जिंग accessories के लिए काम कर रही हैं जैसे –

  • EV पब्लिक चार्जिंग
  • Captive Charging
  • होम चार्जिंग
  • वर्कप्लेस चार्जिंग

हालाँकि कंपनी के फाइनेंसियल स्टेटमेंट इतने प्रभावी नहीं हैं। कंपनी के ऊपर ₹ 15,189.05 Cr. की कंटिंजेंट लायबिलिटी हैं। साथ ही टाटा पॉवर ₹ 20,551.76 Cr. के कर्ज के बोझ तले दबा हैं।

लेकिन इसके आने वाले समय में चार्जिंग स्टेशन का अधिकांश मार्केट शेयर कैप्चर करने की उम्मीद हैं जिससे इसमें जरूर सुधार होगा। EV सेक्टर की आगामी संभावनाएं देखते हुए टाटा पॉवर निवेशकों की रडार पर अवश्य होगा।

ये भी पढ़े –

4. SBI Cards And Payment Services Ltd.

ये भारतीय स्टॉक मार्केट में क्रेडिट कार्ड से सम्बंधित एक मात्र लिस्टेड प्लेयर हैं। इस कंपनी ने 2 वर्ष पूर्व ही शेयर मार्केट में डेब्यू किया हैं। SBI Card के पास सम्पूर्ण मार्केट का लगभग 19% हिस्सा हैं।

SBI Cards की शेयर प्राइस लगभग ₹1,000 हैं। इसका मार्केट कैप ₹ 93,356.06 Cr. हैं। इसकी रेवेन्यू मुख्य रूप से क्रेडिट कार्ड के इंटरेस्ट के रूप में प्राप्त होती हैं।

अगर देखा जाये तो भारत में अभी के समय क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने वाले बहुत ही कम व्यक्ति हैं। भारत की जनसंख्या के अनुसार आने वाले समय में क्रेडिट कार्ड का मार्केट बूम करने की पूरी उम्मीद हैं। इसका पूरा लाभ इस सेक्टर में लिस्टेड कंपनियों को मिलेगा।

कंपनी के मजबूत पक्ष

  • क्रेडिट कार्ड के सेक्टर में एकमात्र लिस्टेड कंपनी।
  • कंपनी का ROE 17% और ROCE 10.01% हैं।
  • इस कंपनी की रेवेन्यू हर वर्ष काफी तेज गति से बढ़ रही हैं।
  • क्रेडिट कार्ड इंडस्ट्री शुरुवाती इंडस्ट्री में होने के कारण तेज ग्रोथ की संभावनाएं।

इसके प्रमोटर SBI के पास इस कंपनी की 69.37% होल्डिंग हैं। क्रेडिट कार्ड इंडस्ट्री में ये शेयर आपकी अच्छी चॉइस हो सकता हैं।

5. IRFC

Indian Railway Finance Corporation Ltd. एक PSU स्टॉक हैं। ये कंपनी हाल आईपीओ के माध्यम से लिस्ट हुई हैं। ये कंपनी 12 दिसंबर 1986 में स्थापित हुई थी। ये कंपनी एक मिनीरत्न कंपनी हैं।

इस कंपनी का शेयर वर्तमान में ₹24 के आस-पास ट्रेड हो रहा हैं। IRFC का मार्केट कैप ₹ 30,580.30 Cr. हैं।

आईआरएफसी का प्राथमिक उद्देश्य भारतीय रेलवे की ‘अतिरिक्त बजटीय संसाधन’ (EBR) आवश्यकता के प्रमुख हिस्से को सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी दरों और शर्तों पर मार्केट Borrowing के माध्यम से पूरा करना है।

इसलिए कंपनी का मुख्य व्यवसाय फाइनेंसियल मार्केट से धन उधार लेना है ताकि अधिग्रहण/संपत्ति के निर्माण के वित्तपोषण के लिए भारतीय रेलवे को lease पर दिया जा सके।

मज़बूत पक्ष

  • बेहतरीन करंट और क्विक रेश्यो 2.27
  • पिछले पांच वर्ष के प्रॉफिट की औसत ग्रोथ 39.08%.
  • कंपनी का अच्छा डिविडेंड यील्ड 4.49%.
  • कंपनी के प्रमोटर्स के पास 86.36% की होल्डिंग।

हालाँकि IRFC का शेयर एक PSU शेयर हैं जो की अपने निवेशकों को वो रिटर्न नहीं दे पाते जो उन्हें देना चाहिए। परन्तु ये शेयर अपने वास्तविक मूल्य से बहुत कम मूल्य पर ट्रेड कर रहा हैं। जिससे इसमें बढ़ोतरी की काफी गुंजाईश हैं।

साथ ये अगर आप अच्छा और रेगुलर रूप से डिविडेंड प्राप्त करना चाहते हैं तो ये आपके लिए एक अच्छी बेट हो सकता हैं।

6. HFCL Ltd.

HFCL कंपनी ऑप्टिकल फाइबर केबल और ऑप्टिकल ट्रांसपोर्ट की अग्रणी निर्माता कंपनी है। पिछले साल इस शेयर में 195% से भी ज्यादा की तेजी देखी गई थी। इस दौरान स्टॉक ₹23 से ₹101 तक पहुंच गया था।

इस कंपनी की स्थापना 1987 में महेंद्र नाहटा ने की थी। कंपनी का मुख्यालय गुरुग्राम, नई दिल्ली में स्थित है। वर्तमान में कंपनी में कुल 1719 कर्मचारी कार्यरत हैं।

अपनी स्थापना के साथ ही, HFCL ने दूरसंचार में हार्डवेयर इंटीग्रेशन की विभिन्न स्ट्रीम में काम करना शुरू कर दिया था।

HFCL के पास एक बड़ा कस्टमर बेस हैं जिसमें नोकिया, वोडाफोन, हिंदुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम, जियो, टाटा, रेलटेल, गेल, बीएसएनएल, लार्सन एंड टर्बो, एयरटेल और बीबीएनएल शामिल हैं।

इस कंपनी का शेयर वर्तमान में ₹70 से ₹75 की रेंज में ट्रेड हो रहा हैं।

मजबूत पक्ष –

  • कंपनी का ROE 12.76% और RoCE 18% है, जो की बढ़िया माने जाते हैं।
  • पिछले कुछ वर्षों से कंपनी निरंतर अपनी बिक्री को बढ़ा रही हैं।
  • कंपनी लगातार अपने नेट प्रॉफिट और ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन को भी बढ़ा रही है।
  • कंपनी के पास कैश में लगभग ₹294 करोड़ है।

इस कंपनी का रिलायंस जियो के साथ मजबूत संबंध हैं। उत्तर भारत के लिए नेटवर्क योजना, डिजाइन और कार्यान्वयन एचएफसीएल लिमिटेड द्वारा किया जाता है। साथ ही निकट भविष्य के लिए कंपनी के पास बहुत अच्छी ऑर्डर बुक है।

5G रोलआउट के साथ ही इस स्टॉक में अच्छी तेजी देखी जा सकती हैं।

इस शेयर के बारें में आप अंग्रेजी में यहाँ से अधिक जान सकते हैं – HFCL Share Price Target 2025

7. Suzlon

सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी रिन्यूएबल एनर्जी सोलूशन्स प्रोवाइडर कंपनी है। कंपनी का स्टॉक एक कम कीमत वाली स्क्रिप्ट है जो हमेशा रिटेल निवेशकों के रडार पर रहता है।

इस कंपनी की स्थापना 1995 में तुलसी तांती ने की थी। तुलसी तांती वर्तमान में कंपनी के CMD भी हैं। जबकि अश्वनी कुमार सुजलॉन ग्रुप के CEO हैं।

इस कंपनी के एक शेयर का दाम वर्तमान में लगभग ₹10 के आस-पास हैं। सुजलॉन का मार्किट कैप लगभग ₹ 8,650.49 Cr. हैं।

मजबूत पक्ष –

  • सुजलॉन कंपनी ने अपने कर्ज में 7,103.33 करोड़ रुपये की भारी कमी की है।
  • सुजलॉन एनर्जी के बिज़नेस की एक बड़ी भौगोलिक पहुंच और बड़ा उपभोक्ता आधार है।
  • कंपनी स्वयं में एक मजबूत ब्रांड है।

हालांकि ये कंपनी बहुत ही ज्यादा कर्ज में डूबी हैं और निरंतर loss-making कंपनी हैं। फिर भी ये कंपनी टर्न अराउंड करने का प्रयास कर रही हैं। अगर ये इसमें सफ़लता पाती हैं तो इसमें आपको तेजी देखने को मिल सकती हैं।

निष्कर्ष

अगर आपको किसी भी शेयर से भविष्य में काफी अच्छा रिटर्न कमाना हैं तो आपको उस कंपनी की अच्छे से रिसर्च करनी चाहिए और उसके बिजनेस मॉडल को समझकर ही निवेश करना चाहिए।

अगर आप उस कंपनी के बिजनेस मॉडल को समझ पाते हैं और उसे एनालिसिस कर सकते हैं तो आपको तभी उस कंपनी में निवेश करना चाहिए। अन्यथा कंपनी में चल रही समस्याओं और उसकी भविष्य की संभावनाओं को समझ नहीं पाएंगे। जिससे आपको नुकसान भी हो सकता है।

स्टॉक मार्केट में पैसा कमाने का एक ही नियम है आप अच्छे और क्वालिटी शेयर को पहचाने और उनमें लंबे समय तक निवेशित रहे।

कम कीमत वाले मजबूत कंपनियों के शेयर 2022 का ये आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो इसे अपने साथियों के साथ जरूर शेयर करें।

डिस्क्लेमर – इस आर्टिकल में बताए गए सभी शेयर मात्र सूचना के उद्देश्य से दिए गए है। इस आर्टिकल में दिए गए शेयर्स में कोई भी निवेश की राय नहीं है। अगर आपको कोई भी निवेश करना है तो पहले स्वयं रिसर्च करें या अपने फाइनेंसियल एडवाइजर से सलाह ले।

Leave a Reply

Punji Guide